ਖੇਡਾਂ ਅਤੇ ਮਾਨਸਿਕ ਸਿਹਤ: ਨਾ ਸਿਰਫ ਤੰਦਰੁਸਤੀ, ਬਲਕਿ ਖੇਡਾਂ ਦਾ ਵਿਸ਼ਵਾਸ ਵੀ


ਖੇਡਾਂ ਅਤੇ ਮਾਨਸਿਕ ਸਿਹਤ: ਨਾ ਸਿਰਫ ਤੰਦਰੁਸਤੀ, ਬਲਕਿ ਖੇਡਾਂ ਦਾ ਵਿਸ਼ਵਾਸ ਵੀ

ਖੇਡਾਂ ਅਤੇ ਮਾਨਸਿਕ ਸਿਹਤ ਹਰ ਕਿਸਮ ਦੀ ਖੇਡ ਸਰੀਰਕ ਮਾਨਸਿਕ, ਮਨੋਵਿਗਿਆਨਕ ਅਤੇ ਬੌਧਿਕ ਸਿਹਤ ਨਾਲ ਨੇੜਿਓਂ ਜੁੜੀ ਹੁੰਦੀ ਹੈ. ਇਹ ਸਰੀਰਕ ਅਤੇ ਮਾਨਸਿਕ ਸਿਹਤ ਨੂੰ ਕਾਇਮ ਰੱਖਦਾ ਹੈ.

ਨਵੀਂ ਦਿੱਲੀ, ਲਾਈਫਸਟਾਈਲ ਡੈਸਕ. ਖੇਡਾਂ ਅਤੇ ਮਾਨਸਿਕ ਸਿਹਤ: आपने ये बात कई बार सुनी होगी कि  खेलकूद का एक इंसान की ज़िंदगी में बड़ा महत्व होता है। खेल का सीधा मतलब होता है शारीरिक मशक्कत। खेल सभी बच्चों को पसंद होता है, चाहे वे लड़की हो या लड़का। चाहे क्रिकेट हो या फिर स्वीमिंग, फुटबॉस, टेनिस या बैडमिंटन। हर तरह का खेल शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होता है। 

अगर एक्सपर्ट्स की मानें तो कोई भी खेल आपके शरीर को रोज़ाना खुराक के तौर पर मिलना चाहिए। हरेक तरह का खेल शारीरिक, मानसिक, मनोवैज्ञानिक और बौद्धिक स्वास्थ्य के साथ गहराई से जुड़ा हुआ है। यह एक व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। 

फिट रहने, वज़न कम करने और सेहत की रखरखाव में खेल मदद करते हैं। साथ ही शरीर का स्टैमिना भी बढ़ाता है। न सिर्फ वयस्कों, बल्कि बच्चों में खेल की आदत जीवनभर काम आती है। खेल आपको जीत के बाद हार को स्वीकार करना सिखाता है। 

एक टीम स्पिरिट पैदा करता है। बोस्टन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन के अनुसार, जो बच्चे खेल में अच्छे होते हैं वो डिप्रेशन का शिकार नहीं होतें। 

मानसिक तौर पर ऐसे मदद करते हैं खेल

मानसिक तौर पर खेल आपका मूड सुधारने, एकाग्रता, आत्मविश्वास और आत्मसम्मान को बढ़ाने का काम करता है। जब आप कोई खेल खेलते हैं तो एंडोर्फिन नामक फील-गुड, मूड अच्छा वाले रसायन दिमाग़ में बनते हैं। खेल बच्चों को कई तरह की सीख देता है, जो जीवन के अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं में काम आते हैं। रिसर्च में ये भी पाया गया है कि जो बच्चे बचपन से किसी न किसी खेल में हिस्सा लेते हैं, वो उनके बड़े होने पर सक्रिय और फिट रहने की संभावना अधिक होती है।

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

मानसिक तनाव भी दूर करता है खेल

खेलों को अच्छा स्ट्रेस बस्टर भी माना जाता है। ये मानसिक तनाव को दूर करने एक अच्छा साधन होता है। यानी खेलने से आपको तनाव के साथ-साथ कई बीमारियों से मुक्ति भी मिलती है। जो लोग नियमित रूप से खेलों में शामिल होते हैं, उनमें चिंता और अवसाद के लक्षणों का अनुभव कम होता है। 

#खेल आपकी शारीर और दिमाग की ऐसे करता है मदद 

ਅਜਵਾਇਨ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣ ਲਈ: ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਇਸ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਸੈਲਰੀ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰੋ

ਅਜਵਾਇਨ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣ ਲਈ: ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਇਸ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਸੈਲਰੀ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰੋ

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

1. डिप्रेशन और चिंता से दूर रखने के लिए शारीरिक मशक्कत ज़रूरी होती है। ऐसे में अपने आपको खेलों में  के ज़रिए यह काम बहुत अच्छे तरीके से हो सकता है। यह अवसाद के लक्षणों के प्रबंधन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

2. खेलों का आत्मसम्मान पर भी बड़ा असर पड़ता है। इंसान अपने बारे में बेहतर महसूस करता है। यह मानसिक स्वास्थ्य का एक महत्वपूर्ण संकेत है। खेल में सक्रिय लोगों का दूसरों के साथ संबंधों में सुधार होता है।

ਵਿਸ਼ਵ ਅਪਾਹਜਤਾ ਦਿਵਸ 2019: ਦੇਖਭਾਲ ਦੇ ਇਨ੍ਹਾਂ ਤਰੀਕਿਆਂ ਨੂੰ ਅਪਣਾ ਕੇ ਬੱਚਿਆਂ ਲਈ ਰਾਹ ਅਸਾਨ ਬਣਾਓ

ਵਿਸ਼ਵ ਅਪਾਹਜਤਾ ਦਿਵਸ 2019: ਦੇਖਭਾਲ ਦੇ ਇਨ੍ਹਾਂ ਤਰੀਕਿਆਂ ਨੂੰ ਅਪਣਾ ਕੇ ਬੱਚਿਆਂ ਲਈ ਰਾਹ ਅਸਾਨ ਬਣਾਓ

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

3. रोज़ाना कोई न कोई खेल खेलने से तनाव भी कम होता है। आपको अंदर से काफी फ्रेश और तरोताज़ा महसूस होता है। आप बिना किसी दबाव के तनावपूर्ण ज़िंदगी जी सकते हैं। एक शोध में पता चला है कि जो लोग खेल में सक्रिय होते हैं वह  तनाव को बेहतर तरीके से से झेल लेते हैं।

4. शारीरिक गतिविधि का मनोदशा पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। चाहे फिर आप 30-45 मिनट वॉक ही क्यों न करें। 

ਜਵਾਬ ਦੇਵੋ

ਤੁਹਾਡਾ ਈ-ਮੇਲ ਪਤਾ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ ਨਹੀਂ ਕੀਤਾ ਜਾਵੇਗਾ। ਲੋੜੀਂਦੇ ਖੇਤਰਾਂ 'ਤੇ * ਦਾ ਨਿਸ਼ਾਨ ਲੱਗਿਆ ਹੋਇਆ ਹੈ।