ਡੇਂਗੂ: ਹੇਮੋਰੈਜਿਕ ਬੁਖਾਰ ਅਤੇ ਸਦਮਾ ਸਿੰਡਰੋਮ ਬਹੁਤ ਖ਼ਤਰਨਾਕ ਸਾਬਤ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ


ਡੇਂਗੂ: ਹੇਮੋਰੈਜਿਕ ਬੁਖਾਰ ਅਤੇ ਸਦਮਾ ਸਿੰਡਰੋਮ ਬਹੁਤ ਖ਼ਤਰਨਾਕ ਸਾਬਤ ਹੋ ਸਕਦਾ ਹੈ

डेंगू बुख़ार के कुछ लक्षणों में बुखार सिरदर्द त्वचा पर लाल चकत्ते और मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द शामिल हैं। कुछ लोगों में डेंगू बुख़ार जानलेवा रूप ले लेता है।

नई दिल्ली, जेएनएन। डेंगू बुख़ार एक इन्फेक्शन है जो डेंगू वायरस की वजह से होता है। यह वायरस मच्छर के जरिए फैलता है। डेंगू का इलाज समय पर करना बहुत जरूरी होता है। इसे हड्डीतोड़ बुखार भी कहा जाता है क्योंकि इससे पीड़ित लोगों को इतना ज्यादा दर्द होता है कि जैसे उनकी हड्डियां टूट गयी हों। 

ਡੇਂਗੂ ਬੁਖਾਰ ਦੇ ਕੁਝ ਲੱਛਣਾਂ ਵਿੱਚ ਬੁਖਾਰ, ਸਿਰ ਦਰਦ, ਚਮੜੀ ਦੇ ਧੱਫੜ ਅਤੇ ਮਾਸਪੇਸ਼ੀ ਅਤੇ ਜੋੜਾਂ ਦੇ ਦਰਦ ਸ਼ਾਮਲ ਹਨ. ਕੁਝ ਲੋਕਾਂ ਵਿੱਚ, ਡੇਂਗੂ ਬੁਖਾਰ ਇੱਕ ਜਾਂ ਦੋ ਦਿਨਾਂ ਵਿੱਚ ਇੱਕ ਰੂਪ ਧਾਰ ਲੈਂਦਾ ਹੈ ਜੋ ਜਾਨਲੇਵਾ ਬਣ ਜਾਂਦਾ ਹੈ. ਡੇਂਗੂ ਇਕ ਹੈਮੋਰੈਜਿਕ ਬੁਖਾਰ ਹੈ ਜੋ ਖੂਨ ਦੀਆਂ ਨਾੜੀਆਂ ਵਿਚ ਖੂਨ ਵਗਣਾ ਜਾਂ ਲੀਕੇਜ ਦਾ ਕਾਰਨ ਬਣਦਾ ਹੈ ਅਤੇ ਖੂਨ ਦੇ ਪਲੇਟਲੈਟਸ ਦੇ ਹੇਠਲੇ ਪੱਧਰ (ਜੋ ਖੂਨ ਦੇ ਜੰਮਣ ਦਾ ਕਾਰਨ ਬਣਦੇ ਹਨ). ਡੇਂਗੂ ਸਦਮਾ ਸਿੰਡਰੋਮ ਵੀ ਹੈ, ਜੋ ਖਤਰਨਾਕ ਬਲੱਡ ਪ੍ਰੈਸ਼ਰ ਦਾ ਕਾਰਨ ਬਣਦਾ ਹੈ.

आइए जानें इस बीमारी के इलाज के बारे में- 

साधारण डेंगू का घर में ही हो सकता है इलाज 

ਡਾਕਟਰੀ ਵਿਗਿਆਨ ਦੇ ਅਨੁਸਾਰ, ਡੇਂਗੂ ਤਿੰਨ ਹਿੱਸਿਆਂ ਵਿੱਚ ਵੰਡਿਆ ਹੋਇਆ ਹੈ. ਕਲਾਸੀਕਲ (ਸਧਾਰਣ) ਡੇਂਗੂ ਬੁਖਾਰ, ਡੇਂਗੂ ਹੇਮੋਰੈਜਿਕ ਬੁਖਾਰ (ਡੀਐਚਐਫ) ਅਤੇ ਡੇਂਗੂ ਸਦਮਾ ਸਿੰਡਰੋਮ (ਡੀਐਸਐਸ). ਆਮ ਡੇਂਗੂ ਆਪਣੇ ਆਪ ਹੀ ਠੀਕ ਹੋ ਜਾਂਦਾ ਹੈ, ਪਰ ਜੇ ਡੀਐਚਐਫ ਦਾ ਇਲਾਜ ਸ਼ੁਰੂ ਨਹੀਂ ਕੀਤਾ ਜਾਂਦਾ ਤਾਂ ਇਹ ਮਰੀਜ਼ ਦੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ‘ਤੇ ਬਣਾਇਆ ਜਾ ਸਕਦਾ ਹੈ.

साधारण डेंगू फीवर 

ठंड लगने के बाद तेज़ बुखार चढ़ना, सिर, मसल्स, जोड़ों और आंखों के पिछले हिस्से में दर्द। बहुत ज्यादा कमजोरी महसूस होना, भूख न लगना, जी मिचलाना और मुंह का स्वाद खराब होना, गले में हल्का दर्द, चेहरे, गर्दन व छाती पर लाल रैशेज होना। 

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

शॉक सिंड्रोम 

इसमें मरीज बहुत बेचैन हो जाता है और तेज बुखार के बावजूद स्किन ठंडी महसूस होती है। मरीज धीरे-धीरे होश खोने लगता है। मरीज की नाड़ी कभी तेज और कभी धीरे चलने लगती है। ब्लड प्रेशर एकदम लो हो जाता है। 

हेमरेजिक फीवर 

डेंगू हेमरेजिक फीवर थोड़ा खतरनाक साबित हो सकता है। इसमें प्लेटलेट और वाइट ब्लड सेल्स की संख्या कम होने लगती है। इसमें नाक और मसूढ़ों से खून आना, शौच या उलटी में खून आना, स्किन पर गहरे नीले-काले रंग के छोटे या बड़े चकत्ते पड़ जाते हैं। 

ਅਜਵਾਇਨ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣ ਲਈ: ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਇਸ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਸੈਲਰੀ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰੋ

ਅਜਵਾਇਨ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣ ਲਈ: ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਇਸ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਸੈਲਰੀ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰੋ

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

जरूरी बात

डेंगू से कई बार मरीज मल्टीपल ऑर्गन फेलियर में चला जाता है। सेल्स के अंदर मौजूद फ्लूड बाहर निकल जाते हैं। पेट के अंदर पानी जमा हो जाता है। लंग्स और लीवर पर बुरा असर पड़ता है और ये काम करना बंद कर देते हैं। मच्छर के काटे जाने के 3-5 दिनों के बाद मरीज में डेंगू बुखार के लक्षण दिखने लगते हैं। कुछ मामलों में शरीर में बीमारी पनपने की मियाद 3 से 10 दिनों की भी हो सकती है। 

ਵਿਸ਼ਵ ਅਪਾਹਜਤਾ ਦਿਵਸ 2019: ਦੇਖਭਾਲ ਦੇ ਇਨ੍ਹਾਂ ਤਰੀਕਿਆਂ ਨੂੰ ਅਪਣਾ ਕੇ ਬੱਚਿਆਂ ਲਈ ਰਾਹ ਅਸਾਨ ਬਣਾਓ

ਵਿਸ਼ਵ ਅਪਾਹਜਤਾ ਦਿਵਸ 2019: ਦੇਖਭਾਲ ਦੇ ਇਨ੍ਹਾਂ ਤਰੀਕਿਆਂ ਨੂੰ ਅਪਣਾ ਕੇ ਬੱਚਿਆਂ ਲਈ ਰਾਹ ਅਸਾਨ ਬਣਾਓ

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

तुरंत डॉक्टर को दिखाएं 

मरीज में डीएसएस या डीएचएफ का एक भी लक्षण दिखाई दे तो उसे तत्काल डॉक्टर के पास ले जाएं। इसमें प्लेटलेट्स कम हो जाती हैं, जिससे शरीर के अंग प्रभावित हो सकते हैं। डेंगू बुखार के हर मरीज को प्लेटलेट्स चढ़ाने की जरूरत नहीं होती, सिर्फ डेंगू हैमरेजिक और डेंगू शॉक सिंड्रोम बुखार में ही जरूरत पड़ने पर प्लेटलेट्स चढ़ाई जाती हैं। 

ਜਵਾਬ ਦੇਵੋ

ਤੁਹਾਡਾ ਈ-ਮੇਲ ਪਤਾ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ ਨਹੀਂ ਕੀਤਾ ਜਾਵੇਗਾ। ਲੋੜੀਂਦੇ ਖੇਤਰਾਂ 'ਤੇ * ਦਾ ਨਿਸ਼ਾਨ ਲੱਗਿਆ ਹੋਇਆ ਹੈ।