मानूसन में होने वाले फंगल और बैक्टीरियल इंफेक्शन्स से बचने के लिए अपनाएं ये आसान उपाय


मानूसन में होने वाले फंगल और बैक्टीरियल इंफेक्शन्स से बचने के लिए अपनाएं ये आसान उपाय

बरसात के मौसम में स्किन से संबंधित संक्रमण के मामले काफी बढ़ जाते हैं। इनसे कैसे बचाव किया जाए और क्या है इनका इलाज जानेंगे इसके बारे में….

बरसात के मौसम में होने वाले इंफेक्शन्स में फंगल इंफेक्शन और बैक्टीरियल इंफेक्शन खास होते हैं। जिसका सही समय पर इलाज न करने से ये बढ़ता चला जाता है और शरीर के दूसरे हिस्सों पर भी फैल सकता है। तो आज जानेंगे इन इंफेक्शन के साथ ही इनसे बचाव और इलाज के बारे में…

फंगल इंफेक्शन

फंगल इंफेक्शन के कई प्रकार हैं। एथलीट फुट, फंगल इंफेक्शन का ही एक प्रकार है। एथलीट फुट में पैरों के गीले होने पर पैरों की उंगलियों के बीच इंफेक्शन हो जाता है। नाखूनों में फंगल इंफेक्शन ज्यादा होता है। वैसे तो यह इंफेक्शन शरीर के किसी भी भाग में हो सकता है, लेकिन जांघ में फंगल इंफेक्शन ज्यादा होता है।

बैक्टीरियल इंफेक्शन

बैक्टीरियल इंफेक्शन की वजह से फोड़े-फुंसियों की समस्या पैदा हो जाती है। उमस भरे वातावरण के कारण स्किन में एलर्जी की समस्या भी पैदा हो जाती है इसलिए स्किन को रगड़ना नहीं चाहिए। हवा में नमी ज्यादा होने से हमारे सिर के बालों में ड्रायनेस की समस्या भी पैदा हो सकती है।

इलाज के बारे में

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

रोगी का लक्षणों के आधार पर इलाज किया जाता है वैसे बैक्टीरियल इंफेक्शन के मामले में एंटीबॉयोटिक दवाएं दी जाती हैं। स्किन एलर्जी के लिए भी एंटी एलर्जिक दवाएं दी जाती हैं। इसी तरह डॉक्टर के परामर्श से फंगल इंफेक्शन की दवाएं भी दी जाती हैं। याद रखें, किसी के कहने से या फिर अपनी मर्जी से कोई क्रीम या दवा न लें। बालों के लिए माइल्ड शैंपू का इस्तेमाल किया जा सकता है।

ਅਜਵਾਇਨ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣ ਲਈ: ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਇਸ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਸੈਲਰੀ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰੋ

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

अपनाएं ये उपाय

1. त्वचा को सूखा और साफ रखें।

ਵਿਸ਼ਵ ਅਪਾਹਜਤਾ ਦਿਵਸ 2019: ਦੇਖਭਾਲ ਦੇ ਇਨ੍ਹਾਂ ਤਰੀਕਿਆਂ ਨੂੰ ਅਪਣਾ ਕੇ ਬੱਚਿਆਂ ਲਈ ਰਾਹ ਅਸਾਨ ਬਣਾਓ

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

2. कॉटन के कपड़े पहनें। ऐसा इसलिए, क्योंकि सिंथेटिक कपड़ों में हवा पास नहीं होती।

3. शूज और शॉक्स की जगह पर ओपन फुटवेयर पहनें।

ਨੀਂਦ ਦੀ ਘਾਟ ਦਿਲ ਦੇ ਦੌਰੇ ਦਾ ਕਾਰਨ ਬਣ ਸਕਦੀ ਹੈ: ਨੀਂਦ ਨਾ ਹੋਣਾ ਦਿਲ ਦੇ ਦੌਰੇ ਦੇ ਜੋਖਮ ਨੂੰ ਵਧਾ ਸਕਦਾ ਹੈ!

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

4. बरसात में बालों के गीला होने पर घर आकर उन्हें धोकर सुखा लें।

5. पानी पर्याप्त मात्रा में पिएं जिससे स्किन ड्राइ न रहे।

ਰਾਸ਼ਟਰੀ ਪ੍ਰਦੂਸ਼ਣ ਰੋਕਥਾਮ ਦਿਵਸ 2019: ਘਰ ਦੀ ਖੂਬਸੂਰਤੀ ਵਧਾਉਣ ਤੋਂ ਇਲਾਵਾ, ਇਹ ਇਨਡੋਰ ਪੌਦੇ ਪ੍ਰਦੂਸ਼ਣ ਤੋਂ ਵੀ ਦੂਰ ਰੱਖਣਗੇ

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

डॉ शैली कपूर, डर्मेटोलॉजिस्ट

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਜਵਾਬ ਦੇਵੋ

ਤੁਹਾਡਾ ਈ-ਮੇਲ ਪਤਾ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ ਨਹੀਂ ਕੀਤਾ ਜਾਵੇਗਾ। ਲੋੜੀਂਦੇ ਖੇਤਰਾਂ 'ਤੇ * ਦਾ ਨਿਸ਼ਾਨ ਲੱਗਿਆ ਹੋਇਆ ਹੈ।