नए जूते-चप्पलों से पैर कटने की समस्या को दूर करने के लिए इन घरेलू उपायों का लें सहारा


नए जूते-चप्पलों से पैर कटने की समस्या को दूर करने के लिए इन घरेलू उपायों का लें सहारा

नए जूते-चप्पल अगर आपको भी करते हैं परेशान तो इन घरेलू उपायों का लें सकते हैं सहारा। जानेंगे इनके बारे में।

नए फुटवेयर्स पहनने में तो बहुत अच्छे लगते हैं लेकिन कई बार इनसे पैरों में जख्म बन जाते हैं। जो बहुत ही तकलीफदेह होते हैं। तो अगर आप भी अक्सर इस समस्या से दो-चार होते हैं तो इन चीज़ों की मदद से आप इस समस्या का कर सकते है काफी हद तक समाधान।

हल्दी और नीम की पत्तियां 

हल्दी बहुत ही अच्छा एंटी-सेप्टिक होता है। जो किसी भी तरह के जलने-कटने और छिलने पर तुरंत असर करता है। इसके साथ ही नीम की पत्तियां एंटी-इफ्लेमेटरी का काम करती हैं। इससे जलन, सूजन और कटने से पैरों में होने वाली खुजली की समस्या दूर होती है। दोनों को एक साथ मिलाकर पेस्ट तैयार करें और उसे चोट वाली जगह पर लगाएं। 20 मिनट रखने के बाद इसे गुनगुने पानी से धो लें। 

टूथपेस्ट

टूथपेस्ट को भी किसी भी जले-कटे निशान पर लगाना बहुत ही फायदेमंद होता है, क्योंकि इसमें बेकिंग सोडा, हाइड्रोजन पेरॉक्साइड और मेंथॉल मौजूद होता है। जो घाव को भरने का काम करता है। कटे हुए हिस्से पर थोड़ा टूथपेस्ट लगाकर इसे अच्छी तरह फैलाएं और रात भर लगा रहने दें। सुबह गुनगुने पानी से धोकर उस पर पेट्रोलियम जैली या कोई मॉइश्चराइजर क्रीम लगाएं। मेंथॉल चोट से होने वाली जलन को कम करता है, लेकिन ध्यान रहे कि इसके लिए जेल बेस्ड टूथपेस्ट का इस्तेमाल न करें।

एलोवेरा

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

हेल्दी माइंड के लिए न करें इन 3 बातों को इग्नोर

यह भी पढ़ें

एलोवेरा का इस्तेमाल सबसे ज्यादा जूते-चप्पलों से कटे हुए हिस्सों पर किया जाता है। एलोवेरा जलन, खुजली और दर्द से न सिर्फ राहत दिलाता है, बल्कि इसका एंटी-इन्फेलेमेटरी गुण घाव को जल्द ठीक करने का भी काम करता है। इसकी पत्तियों से जेल निकालकर चोट वाले हिस्से पर लगाकर हल्का-सा मसाज करें। सूखने के बाद इसे पानी से धो लें। दिन में तीन-चार बार ऐसा करने से घाव जल्दी भर जाता है।

ਅਜਵਾਇਨ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣ ਲਈ: ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਇਸ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਸੈਲਰੀ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰੋ

ਅਜਵਾਇਨ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣ ਲਈ: ਜੇ ਤੁਸੀਂ ਭਾਰ ਘਟਾਉਣਾ ਚਾਹੁੰਦੇ ਹੋ, ਤਾਂ ਇਸ ਤਰੀਕੇ ਨਾਲ ਸੈਲਰੀ ਦੀ ਵਰਤੋਂ ਕਰੋ

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

नारियल तेल 

ਵਿਸ਼ਵ ਅਪਾਹਜਤਾ ਦਿਵਸ 2019: ਦੇਖਭਾਲ ਦੇ ਇਨ੍ਹਾਂ ਤਰੀਕਿਆਂ ਨੂੰ ਅਪਣਾ ਕੇ ਬੱਚਿਆਂ ਲਈ ਰਾਹ ਅਸਾਨ ਬਣਾਓ

ਵਿਸ਼ਵ ਅਪਾਹਜਤਾ ਦਿਵਸ 2019: ਦੇਖਭਾਲ ਦੇ ਇਨ੍ਹਾਂ ਤਰੀਕਿਆਂ ਨੂੰ ਅਪਣਾ ਕੇ ਬੱਚਿਆਂ ਲਈ ਰਾਹ ਅਸਾਨ ਬਣਾਓ

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

नारियल तेल ज्यादातर घरों में आसानी से मिलने वाला तेल है। नारियल तेल न केवल त्वचा को अंदर से मॉइश्चराइज करता है, बल्कि ये चोट और जलने-कटने जैसी समस्याओं से भी निजात दिलाता है। साथ ही, यह कई प्रकार के इन्फेक्शन्स से भी बचाता है। इसे आप नए जूते-चप्पलों के ऊपर भी लगा सकते हैं जो उनकी हार्डनेस को कम करता है। इससे उनसे होने वाले जख्मों से बचा जा सकता है।

ਨੀਂਦ ਦੀ ਘਾਟ ਦਿਲ ਦੇ ਦੌਰੇ ਦਾ ਕਾਰਨ ਬਣ ਸਕਦੀ ਹੈ: ਨੀਂਦ ਨਾ ਹੋਣਾ ਦਿਲ ਦੇ ਦੌਰੇ ਦੇ ਜੋਖਮ ਨੂੰ ਵਧਾ ਸਕਦਾ ਹੈ!

ਨੀਂਦ ਦੀ ਘਾਟ ਦਿਲ ਦੇ ਦੌਰੇ ਦਾ ਕਾਰਨ ਬਣ ਸਕਦੀ ਹੈ: ਨੀਂਦ ਨਾ ਹੋਣਾ ਦਿਲ ਦੇ ਦੌਰੇ ਦੇ ਜੋਖਮ ਨੂੰ ਵਧਾ ਸਕਦਾ ਹੈ!

ਵੀ ਪੜ੍ਹੋ

ਜਵਾਬ ਦੇਵੋ

ਤੁਹਾਡਾ ਈ-ਮੇਲ ਪਤਾ ਪ੍ਰਕਾਸ਼ਿਤ ਨਹੀਂ ਕੀਤਾ ਜਾਵੇਗਾ। ਲੋੜੀਂਦੇ ਖੇਤਰਾਂ 'ਤੇ * ਦਾ ਨਿਸ਼ਾਨ ਲੱਗਿਆ ਹੋਇਆ ਹੈ।